Biography Hindi

महात्मा बुद्ध का की जीवन परिचय(Biography)?

Mahatma Budh Hindi Biography

भारत को ‘जंबूद्वीप’ के नाम से जाना जाता था। बुद्ध का जन्म रोहिणी नदी के तट पर बसे शाक्य वंश में हुआ था। उनके पिता शुद्धोधन और माता मायादेवी थीं। बालक बुद्ध का भविष्य जानने के लिए विद्वानों और ऋषियों को बुलाया गया। उन्होंने बताया कि “यह बच्चा या तो चक्रवर्ती सम्राट होगा और पृथ्वी पर राज करेगा या बुद्ध होगा। इस बच्चे ने सभी जीवों के कल्याण के लिए जन्म लिया है। धर्मराज ने स्वयं इस धरती पर अवतार लिया है। यह गरीबों, दुखी और असहायों को कष्टों से मुक्त करेगा।”

  • नाम गौतम बुद्ध
  • जन्म 563 ई.पू
  • जन्म स्थान लुंबिनी (कपिलवस्तु), नेपाल
  • बचपन का नाम सिद्धार्थ
  • पिता शुद्धोधन
  • माता मायादेवी
  • पत्नी यशोधरा
  • बेटा राहुल
  • बोधगया में ज्ञान की प्राप्ति
  • सारनाथ में पहला उपदेश
  • मृत्यु 483 ईसा पूर्व (80 वर्ष की आयु में)

भगवान गौतम बुद्ध को हुई ज्ञान की प्राप्ति

एक दिन गौतम बुद्ध बुद्ध गया पहुंचे। उस दौरान वे बहुत थके हुए थे, वैसाखी पूर्णिमा का दिन होने के कारण वे आराम करने के लिए पीपल के पेड़ के नीचे बैठ गए और ध्यान करने लगे। इस दौरान भगवान गौतम बुद्ध ने प्रण लिया कि जब तक उन्हें सत्य की खोज नहीं हो जाती, वे यहां से नहीं हटेंगे।

गौतम बुद्ध की खोज में यह एक नया मोड़ था। इस दौरान उन्होंने पाया कि सत्य हर इंसान के पास होता है और उसे बाहर से खोजना निराधार है। इस घटना के बाद, उन्हें गौतम बुद्ध के रूप में जाना जाने लगा। उसी समय उस वृक्ष को बोधि वृक्ष कहा जाने लगा और उस स्थान को बोधगया कहा गया। इसके बाद उन्होंने पाली भाषा में बौद्ध धर्म का प्रचार किया।

Read More: Marry Kom Biography in Hindi

उस समय पाली भी आम लोगों की भाषा थी। यही कारण था कि लोगों ने इसे आसानी से अपनाया क्योंकि अन्य प्रमोटरों ने उस दौरान संस्कृत भाषा का इस्तेमाल किया था। जिसे समझना लोगों के लिए थोड़ा मुश्किल था. इस वजह से भी लोग गौतम बुद्ध और बौद्ध धर्म की ओर अधिक से अधिक आकर्षित हुए। शीघ्र ही लोगों के बीच बौद्ध धर्म की लोकप्रियता बढ़ने लगी। वहीं, इसके बाद कई हजार अनुयायी भारत के कई अलग-अलग क्षेत्रों में फैल गए। जिससे उनका संघ बना। साथ ही इस संघ ने बौद्ध धर्म की शिक्षाओं को पूरी दुनिया में फैलाया। जिसके बाद बौद्ध धर्म के अनुयायियों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती गई।

जब सिद्धार्थ ने पारिवारिक मोह त्याग कर सन्यासी बनने का निश्चय किया

राजा शुद्धोदन ने सिद्धार्थ का मन शिक्षा में लगा दिया, जिससे सिद्धार्थ ने विश्वामित्र से शिक्षा ग्रहण की। इतना ही नहीं, गौतम बुद्ध को वेदों, उपनिषदों के साथ युद्ध कौशल में भी दक्ष बनाया गया था। सिद्धार्थ को बचपन से ही घुड़सवारी का शौक था, जबकि धनुष-बाण और रथ चलाने वाले रथ का मुकाबला कोई दूसरा नहीं कर सकता था।

16 साल की उम्र में उनके पिता ने सिद्धार्थ का विवाह राजकुमारी यशोधरा से कर दिया। जिससे उन्हें एक पुत्र हुआ, जिसका नाम राहुल रखा गया। गौतम बुद्ध के मन को गृहस्थ जीवन में लगाने के लिए उनके पिता ने उन्हें हर प्रकार की सुविधा प्रदान की। यहां तक कि सिद्धार्थ के पिता ने भी अपने पुत्र के भोग विलास का पूरा प्रबंध कर लिया था।

बचपन और शिक्षा:

सिद्धार्थ को बौद्धिक और आध्यात्मिक विषयों में बहुत रुचि थी, उनके शिक्षक विश्वामित्र ने उन्हें वेद और उपनिषद पढ़ाया। उन्होंने राज्य सभा की बैठकों और बैठकों में भाग लेकर शासन की कला सीखी। सिद्धार्थ सभी बच्चों की तरह चंचल नहीं थे, उनका बचकाना स्वभाव उदासीन था। वह बचपन से ही पेड़ के नीचे बैठकर दुनिया के रंगों पर चिंतन करते थे। सिद्धार्थ के गृहस्थ जीवन के परित्याग को लेकर राजा शुद्धोदन को हमेशा परेशान किया जाता था। उन्होंने सिद्धार्थ को सभी दुखों और दुखों से दूर रखा।

Read More: Rohit Sharma Biography in Hindi

विवाह :

547 ईसा पूर्व में 16 वर्षीय सिद्धार्थ का विवाह राजकुमारी यशोधरा से हुआ था। यह विवाह इसलिए किया गया था कि सिद्धार्थ पारिवारिक लगाव से बंधे थे, और वे संन्यास नहीं ले सकते थे। लेकिन सिद्धार्थ ने विलासिता की चीजों को अपने ऊपर कभी हावी नहीं होने दिया। सिद्धार्थ अपनी पत्नी से बहुत ज्ञान की बातें करते थे, वे कहते थे कि पूरी दुनिया में केवल एक महिला ही पुरुष की आत्मा को बांध सकती है। इसी बीच यशोधरा ने एक पुत्र राहुल को जन्म दिया।

महात्मा बुद्ध की शिक्षाएँ:

महात्मा बुद्ध की शिक्षाएँ मानव जाति के लाभ के लिए थीं। उन्होंने सारनाथ में अपना पहला उपदेश दिया और वहां 5 मित्रों को अपना अनुयायी बना लिया और उन्हें भी धर्म के प्रचार के लिए भेजा। महात्मा बुद्ध ने सभी दुखों का कारण और इसके उन्मूलन के लिए अष्टांगिक मार्ग दिया, और तृष्णा (इच्छा या अभीप्सा) को सभी दुखों का कारण कहा। महात्मा बुद्ध ने अहिंसा का समर्थन किया, पशु हत्या का भी विरोध किया। महात्मा बुद्ध की शिक्षाओं का सारांश:

महात्मा बुद्ध ने दिया अग्निहोत्र और गायत्री मंत्र का उपदेश

ध्यान और अंतर्दृष्टि

बीच का रास्ता अपनाएं

चार महान सत्य

अष्टांग पथ

मृत्यु:

महात्मा बुद्ध ने 80 वर्ष की आयु में 483 ईसा पूर्व में अपना नश्वर शरीर छोड़ दिया और परमात्मा में विलीन हो गए। उन्होंने ज्ञान प्राप्त करने के बाद अपना पूरा जीवन मानव कल्याण के लिए समर्पित कर दिया। वे ज्ञान को केवल अपने तक सीमित नहीं रखना चाहते थे, इसीलिए उन्होंने अनेक उपदेश दिए और अपने ज्ञान को अमर बना दिया।

Read More: Divya Bharti Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.