Biography Hindi

सूर्यकान्त त्रिपाठी का जीवन परिचय(Biography)?

Suryakant Tripathi Hindi Biography

निराला’ का जन्म माघ शुक्ल पक्ष की एकादशी, संवत 1953 को महिषादल राज्य, मेदनीपुर (बंगाल) में हुआ था। उन्नाव जिले के गढ़कोला गांव में उनका अपना घर है। निराला जी का जन्म रविवार के दिन हुआ था, इसलिए उन्हें सुरजकुमार कहा गया। पं. को लिखे अपने पत्र में। महावीर प्रसाद 11 जनवरी 1921 को निराला जी ने अपनी आयु 22 वर्ष बताई है। रामनरेश त्रिपाठी ने 1926 ई. के अंत में कविता कौमुदी का जन्म विवरण मांगा तो निराला जी ने उनकी जन्मतिथि लिखकर माघ शुक्ल 11 संवत 1953 (1896) को भेजा। यह वर्णन स्वयं निराला जी ने लिखा था।[2] बंगाल में बसने का नतीजा यह हुआ कि बंगाली एक तरह से उनकी मातृभाषा बन गई।

  • नाम सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
  • अन्य नाम निराला
  • जन्म 21 फ़रवरी, 1896 [1]
  • जन्म भूमि मेदनीपुर ज़िला, बंगाल (पश्चिम बंगाल)
  • मृत्यु 15 अक्टूबर, सन् 1961
  • मृत्यु स्थान प्रयाग, भारत
  • अभिभावक पं. रामसहाय
  • पति/पत्नी मनोहरा देवी
  • कर्म भूमि भारत
  • कर्म-क्षेत्र साहित्यकार
  • मुख्य रचनाएँ परिमल, गीतिका, तुलसीदास (खण्डकाव्य) आदि
  • विषय कविता, खंडकाव्य, निबंध, समीक्षा
  • भाषा हिन्दी, बंगला, अंग्रेज़ी और संस्कृत भाषा
  • प्रसिद्धि कवि, उपन्यासकार, निबन्धकार और कहानीकार
  • नागरिकता भारतीय

परिवार

‘निराला’ के पिता का नाम पं. रामसहाय, जो बंगाल के महिषादल राज्य के मेदिनीपुर जिले में सरकारी नौकरी करते थे। निराला का बचपन बंगाल के इसी क्षेत्र में बीता, जिसका उनके मन पर गहरा प्रभाव पड़ा है। तीन साल की उम्र में उनकी मां की मृत्यु हो गई और उनके पिता ने उनकी देखभाल की।

Read More: Maharana Pratap Biography in Hindi

शिक्षा

निराला की शिक्षा यहां बंगाली माध्यम से शुरू हुई। हाई स्कूल पास करने के बाद उन्होंने घर पर ही संस्कृत और अंग्रेजी साहित्य का अध्ययन किया। हाई स्कूल के बाद, वह लखनऊ और फिर गढ़कोला (उन्नाव) चले गए। रामचरितमानस उन्हें शुरू से ही बहुत प्रिय थे। वह हिंदी, बंगाली, अंग्रेजी और संस्कृत में कुशल थे और विशेष रूप से श्री रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद और श्री रवींद्रनाथ टैगोर से प्रभावित थे। जब तक वे मैट्रिक की कक्षा में पहुँचे, उनकी दार्शनिक रुचि का परिचय होने लगा। संगीत में उनकी विशेष रुचि थी। पढ़ाई में उनकी ज्यादा रुचि नहीं थी। इस कारण उनके पिता कभी-कभी उनके साथ कठोर व्यवहार करते थे, भले ही उन्हें अपने इकलौते पुत्र से विशेष स्नेह था।

शादी

मनोहरा देवी, पं. रायबरेली जिले के दलमऊ की रामदयाल सुंदर और पढ़ी-लिखी थीं, उन्हें संगीत का भी अभ्यास था। पत्नी के कहने पर ही उन्होंने हिन्दी सीखी। इसके तुरंत बाद उन्होंने बांग्ला के बजाय हिंदी में कविता लिखना शुरू कर दिया। बचपन की निराशा और अकेलेपन के बाद, उन्होंने अपनी पत्नी के साथ खुशी-खुशी कुछ साल बिताए, लेकिन यह खुशी अधिक समय तक नहीं टिकी और 20 साल की उम्र में उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई। बाद में उनकी बेटी जो विधवा थी, की भी मृत्यु हो गई। वे आर्थिक असमानताओं से भी घिरे हुए थे।

Read More: Sandeep Maheshwari Biography in Hindi

पारिवारिक आपदा

16-17 वर्ष की आयु से ही उनके जीवन में विपत्तियां आने लगीं, लेकिन कई दैवीय, सामाजिक और साहित्यिक संघर्षों का सामना करने के बावजूद उन्होंने अपने लक्ष्य को कभी कम नहीं होने दिया। उनकी मां का पहले ही निधन हो चुका था, उनके पिता का भी असमय निधन हो गया था। इन्फ्लूएंजा के भीषण प्रकोप में घर के अन्य जानवरों की भी मौत हो गई। पत्नी की मौत से वह टूट गया था। लेकिन परिवार के पालन-पोषण का बोझ उठाकर वह अपने रास्ते से नहीं भटके। इन विपदाओं से मुक्ति दिलाने में उनके दार्शनिक ने बहुत मदद की।

कार्यस्थान

निराला जी संपादन, स्वतंत्र लेखन और अनुवाद का काम किया। उन्होंने 1922 से 23 के दौरान कोलकाता से प्रकाशित ‘समन्वय’ का संपादन किया। अगस्त 1923 से ‘मतवाला’ के संपादकीय बोर्ड में काम किया। इसके बाद वे लखनऊ में गंगा बुक माला कार्यालय और मासिक पत्रिका ‘सुधा’ से जुड़े रहे। वहाँ 1935 के मध्य तक। उन्होंने 1942 से इलाहाबाद में अपनी मृत्यु तक स्वतंत्र लेखन और अनुवाद का काम भी किया। जयशंकर प्रसाद और महादेवी वर्मा के साथ, उन्हें हिंदी साहित्य में छायावाद का मुख्य स्तंभ माना जाता है। उन्होंने लघु कथाएँ, उपन्यास और निबंध भी लिखे हैं, लेकिन उनकी प्रसिद्धि मुख्य रूप से कविता के कारण है।[2]

रचनाओं

निराला की रचनाओं में अनेक प्रकार के भाव मिलते हैं। हालांकि वे खड़ी बोली के कवि थे, वे ब्रजभाषा और अवधी भाषा में भी कविताएँ रचते थे। कहीं उनकी रचनाओं में प्रेम की तीव्रता है, कहीं आध्यात्मिकता है, कहीं गरीबों के प्रति सहानुभूति और सहानुभूति है, कहीं देश प्रेम की भावना है, कहीं सामाजिक रीति-रिवाजों का विरोध है तो कहीं प्रकृति के प्रति स्नेह परिलक्षित होता है।

Read More: Nelson Mandela Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.