Biography Hindi

कल्पना चावला का जीवन परिचय(Biography)?

Kalpana Chawla Hindi Biography

कल्पना चावला एक भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री और अंतरिक्ष शटल मिशन विशेषज्ञ थीं। वह अंतरिक्ष में जाने वाली दूसरी भारतीय और पहली भारतीय महिला थीं। कल्पना ‘कोलंबिया अंतरिक्ष यान आपदा’ में मारे गए सात अंतरिक्ष यात्री चालक दल के सदस्यों में से एक थीं। कल्पना की पहली अंतरिक्ष उड़ान एसटीएस 87 कोलंबिया शटल 19 नवंबर 1997 और 5 दिसंबर 1997 के बीच पूरी हुई थी। उनकी दूसरी और आखिरी उड़ान 16 जनवरी 2003 को अंतरिक्ष शटल कोलंबिया से शुरू हुई थी, लेकिन दुर्भाग्य से 1 फरवरी 2003 को कोलंबिया अंतरिक्ष शटल लैंडिंग से पहले दुर्घटनाग्रस्त हो गया। पृथ्वी पर, कल्पना चावला सहित अंतरिक्ष यान के सभी 6 यात्रियों की मौत होगी।

  • नाम कल्पना चावला
  • जन्म स्थान 1 जुलाई 1980, करनाल (हरियाणा)
  • पिता का नाम बनारसी लाल चावला
  • माता का नाम संज्योति
  • पति का नाम जीन-पियरे हैरिसन (विवाहित 1983)
  • शैक्षिक योग्यता: वैमानिकी अभियंता
  • मृत्यु 1 फरवरी 2003

कल्पना चावला जी कौन थी?

जैसा कि भारत के सभी नागरिक निश्चित रूप से जानते हैं कि भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला थीं। कल्पना चावला जी को सिर्फ भारत के नागरिक ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के नागरिक जानते हैं। कल्पना चावला जी एक ऐसी महिला थीं, जो भारतीय महिला होते हुए भी अमेरिका के साथ अंतरिक्ष में गईं। कहां जाएं कल्पना चावला स्पेस शटल मिशन की स्पेशलिस्ट महिला थीं।

कल्पना चावला पूरी दुनिया की वित्तीय अंतरिक्ष यात्री महिला और पूरे भारत से पहली महिला अंतरिक्ष यात्री थीं। कल्पना चावला कोलंबिया अंतरिक्ष यान आपदा में मारे गए सात अंतरिक्ष यात्रियों के दल में से एक थीं। कल्पना चावला की पहली अंतरिक्ष उड़ान 19 नवंबर 1997 से 5 दिसंबर 1997 तक STS 87 कोलंबिया शटल मिशन के दौरान संचालित की गई थी। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कल्पना चावला ने साल 2003 में 16 जनवरी को दूसरी फ्लाइट ली थी. इस उड़ान की शुरुआत भी कल्पना चावला ने स्पेस शटल कोलंबिया से की थी।

Read More: Mira Bai Biography in Hindi

कल्पना चावला का जन्म

अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला का जन्म 1 जुलाई 1980 को हरियाणा राज्य में स्थित एक छोटे से शहर करनाल में हुआ था। कल्पना चावला के पिता का नाम बनारसी लाल चावला और माता का नाम संज्योति था। कल्पना चावला के माता-पिता का एक बेटा और दो अन्य बेटियां थीं। उनकी दो बेटियों के नाम सुनीता चावला और दीपा चावला थे जबकि उनके भाई का नाम संजय चावला था।

कल्पना चावला अपने सभी भाई-बहनों में सबसे छोटी थीं। इसी वजह से कल्पना चावला को अपने माता-पिता का भरपूर प्यार मिलता था। कल्पना चावला बचपन से ही बहुत ही चंचल स्वभाव की थीं, अपने चंचल स्वभाव के कारण किसी को भी मोहित कर लेती थीं। इसी वजह से कल्पना चावला सभी की चहेती हुआ करती थीं।

कल्पना चावला शिक्षा

  • कल्पना चावला की प्रारंभिक शिक्षा टैगोर पब्लिक स्कूल, करनाल में हुई। कल्पना चावला जी ने बचपन में ही अपना लक्ष्य निर्धारित कर लिया था। वह अपने शुरुआती दिनों से ही एरोनॉटिक इंजीनियर बनना चाहते थे। कल्पना चावला ने एरोनॉटिक इंजीनियर बनने के साथ-साथ यह भी ठान लिया था कि वह एक अंतरिक्ष यात्री भी बनेंगी और अंतरिक्ष की यात्रा करेंगी।
  • कल्पना चावला ने अंतरिक्ष यात्री बनने के अपने सपने को संजोया था। लेकिन इसके विपरीत कल्पना चावला के पिता का मानना ​​था कि कल्पना चावला जी को शिक्षक बनना चाहिए। सपने को साकार करने के लिए कल्पना चावला ने चंडीगढ़ के पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज में एयरोनॉटिक इंजीनियर के रूप में अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए दाखिला लिया। कल्पना चावला ने वर्ष 1982 में एरोनॉटिक इंजीनियर की डिग्री प्राप्त की।
  • एरोनॉटिक इंजीनियर की डिग्री प्राप्त करने के बाद कल्पना चावला उसी साल अमेरिका चली गईं, उन्होंने एरोस्पेस इंजीनियर में मास्टर्स करने के लिए 1982 में अर्लिंग्टन के टेक्सास विश्वविद्यालय में अमेरिका में दाखिला लिया। कल्पना चावला ने वर्ष 1984 में मास्टर ऑफ एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की इस परीक्षा को सफलतापूर्वक उत्तीर्ण किया।
  • अपनी पढ़ाई के बीच में ही कल्पना चावला ने वर्ष 1983 में जीन-पियरे हैरिसन से भी शादी की। जीन-पियरे हैरिसन एक प्रसिद्ध उड़ान प्रशिक्षक और विमानन लेखक थे। कल्पना चावला ने भी वर्ष 1986 में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में अपना दूसरा मास्टर पूरा किया। इसके बाद, कल्पना चावला ने कोलैडोना विश्वविद्यालय में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी की।

कल्पना चावला करियर

1)कल्पना चावला के करियर की शुरुआत साल 1988 ई. में नासा के अमेश रिसर्च सेंटर में हुई थी। कल्पना चावला ने नासा के अमेश रिसर्च सेंटर से ओवरसीज मेथड्स इंक के उपाध्यक्ष के रूप में शुरुआत की। कल्पना चावला ने वहां वी/एसटीओएल सीएफडी पर शोध किया। कल्पना चावला ने हवाई जहाजों के लाइसेंस के लिए सर्टिफाइड फ्लाइट इंस्ट्रक्टर का रैंक भी हासिल किया।

2) कल्पना चावला को साल 1911 में अमेरिका की मूल निवासी होने की नागरिकता मिली। इसके बाद मार्च 1995 में कल्पना चावला नासा के एस्ट्रोनॉट कोर्स में शामिल हुईं और उन्होंने 1996 में अपनी पहली उड़ान भरी। कल्पना चावला ने 19 नवंबर 1997 को कोलंबिया में अपनी पहली अंतरिक्ष उड़ान भरी। .

3) इस अंतरिक्ष उड़ान के बाद कल्पना चावला अंतरिक्ष में एक साथ यात्रा करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं और दूसरी भारतीय बनीं। भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा थे, जिन्होंने 1984 में अंतरिक्ष की यात्रा की थी। ऐसा अनुमान है कि कल्पना चावला ने अपनी पहली अंतरिक्ष उड़ान में लगभग 1000000 मील की यात्रा की, जो पृथ्वी के लगभग 252 चक्करों के बराबर है।

Read More: Elon Musk Biography in Hindi

4) कल्पना चावला ने अपने जीवन के लगभग 272 घंटे अंतरिक्ष में बिताए। कल्पना चावला जी को इस यात्रा में स्पार्टन उपग्रह स्थापित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, जिस पर कल्पना चावला ने उपग्रह को ठीक से स्थापित किया लेकिन यह उपग्रह स्वतंत्र रूप से और ठीक से अपना काम नहीं कर सका। इस दोष का कारण कल्पना चावला को माना जाता था।

5) नासा को फॉल्ट की जांच करने में करीब 5 महीने का समय लगा, जिसके बाद यह निष्कर्ष निकला कि गलती कल्पना चावला की नहीं बल्कि सॉफ्टवेयर इंटरफेस की वजह से हुई। इसके बाद कल्पना चावला को उनकी अंतरिक्ष यात्रा गतिविधियों को अंजाम देने के लिए अंतरिक्ष यात्री कार्यालय के अंतरिक्ष स्टेशन पर काम करने की तकनीक सौंपी गई।

6) वर्ष 2002 में कल्पना चावला को उनकी दूसरी अंतरिक्ष उड़ान के लिए चुना गया था। इस बार भी कल्पना चावला ने कोलंबिया के उसी अंतरिक्ष यान में उड़ान भरी थी, लेकिन इस बार उनका अंतरिक्ष यान sts-107 था। विभिन्न तकनीकी कारणों से इस मिशन को पीछे धकेला जाता रहा और आखिरकार 16 जनवरी 2003 को कल्पना चावला ने कोलंबिया से अपनी दूसरी उड़ान भरी।

कल्पना चावला को मिला पुरस्कार

  • कल्पना चावला जी को उनकी प्रसिद्धि के अनुसार तीन प्रकार के पुरस्कारों से सम्मानित किया गया, जो यहां लिखित रूप में दर्शाए गए हैं।
  • कल्पना चावला को कांग्रेसनल स्पेस मेडल से नवाजा गया।
  • कल्पना चावला को नासा स्पेस फ्लाइट मेडल से भी नवाजा जा चुका है।
  • कल्पना चावला नासा विशिष्ट सेवा पदक की प्राप्तकर्ता भी हैं।

कल्पना चावला मौत

भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला ने अपनी दूसरी अंतरिक्ष यात्रा के दौरान अपने प्राणों की आहुति दे दी। कल्पना चावला की दूसरी यात्रा उनकी आखिरी साबित हुई। कल्पना चावला अपना शोध पूरा करके पृथ्वी पर लौट रही थीं, लेकिन अंतरिक्ष यान के पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करने से पहले ही उनका विमान टूट गया।

उनके विमान के टूटने के बाद, कल्पना चावला में सवार सात अंतरिक्ष यात्रियों की उसी अंतरिक्ष यान में मृत्यु हो गई। यह घटना न केवल कोलंबिया के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए बेहद दर्दनाक थी। यह घटना करीब 16 दिनों की यात्रा के बाद अंतरिक्ष से लौटते समय हुई। यह घटना पृथ्वी से करीब 63 किमी की ऊंचाई पर घटी है। तो कल्पना चावला जी का निधन 1 फरवरी 2003 को हुआ।

Read More: Subhash Chandra Bose Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.