Biography Hindi

रानी लक्ष्मीबाई का परिचय(Biography)?

Rani Laxmi Bai Hindi Biography

हमारे देश में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का नाम बड़े ही गर्व से लिया जाता है। रानी लक्ष्मीबाई उन क्रांतिकारियों में से एक थीं जिन्होंने वर्ष 1857 में पहले भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया और ब्रिटिश साम्राज्य की सेना से मोर्चा संभाला। रानी लक्ष्मीबाई ने महज 23 साल की उम्र में जिस तरह से ब्रिटिश साम्राज्य के सैनिकों के साथ लड़ाई लड़ी थी, उसे देखकर अंग्रेज अफसर भी हैरान रह गए थे।

रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर 1828 को वाराणसी के एक मराठा ब्राह्मण परिवार में हुआ था। रानी लक्ष्मीबाई के पिता का नाम मोरोपंत तांबे था जबकि रानी लक्ष्मीबाई की माता का नाम भागीरथी सप्रे था। रानी लक्ष्मीबाई के बचपन का नाम मणिकर्णिका था, लेकिन उनका परिवार उन्हें प्यार से मनु कहकर बुलाता था।

रानी लक्ष्मीबाई के पिता अंतिम पेशवा बाजीराव द्वितीय के सेवक थे। जब रानी लक्ष्मीबाई चार वर्ष की थीं, तब उनकी माता भागीरथी का निधन हो गया। ऐसे में घर पर रानी लक्ष्मीबाई की देखभाल करने वाला कोई नहीं था। यह देखकर रानी लक्ष्मीबाई के पिता उन्हें अपने साथ बाजीराव के दरबार में ले जाते थे। यहां रानी लक्ष्मीबाई की चंचलता ने सभी को मोहित कर लिया था। बाजीराव रानी लक्ष्मीबाई को प्यार से ‘छबीली’ कहकर बुलाते थे।

रानी लक्ष्मीबाई की शिक्षा

पेशवा बाजीराव के बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षक आते थे। रानी लक्ष्मीबाई जब अपने पिता के साथ उनके दरबार में जाने लगीं, तो उन्होंने भी बाजीराव के बच्चों से शिक्षा प्राप्त करना शुरू कर दिया। रानी लक्ष्मीबाई महज 7 साल की उम्र में घुड़सवारी, तलवारबाजी और तीरंदाजी में निपुण हो गई थीं। रानी लक्ष्मीबाई को बचपन से ही हथियार चलाने का शौक था।

रानी लक्ष्मीबाई विवाह

धीरे-धीरे समय बीतता गया और जब रानी लक्ष्मीबाई 13 वर्ष की थीं, तब वर्ष 1842 में उनका विवाह झांसी के राजा गंगाधर राव निवलकर से बड़ी धूमधाम से हुआ था। शादी के बाद ही मणिकर्णिका का नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सन् 1851 में रानी लक्ष्मीबाई को पुत्र रत्न प्राप्त हुआ और पूरा झाँसी हर्षित हो उठा। लेकिन जल्द ही इन खुशियों पर किसी का ध्यान गया और महज 4 महीने की उम्र में ही बच्चे की मौत हो गई।

Read More: Deepika Padukone Biography in Hindi

इस घटना के दो साल बाद राजा गंगाधर राव की अचानक तबीयत बिगड़ने लगी। ऐसे में दरबारियों ने रानी लक्ष्मीबाई को पुत्र गोद लेने की सलाह दी। जिसके बाद रानी लक्ष्मीबाई ने पांच साल के एक लड़के को गोद लिया और उसका नाम दामोदर राव रखा। हालांकि, 21 नवंबर 1853 को, बेटे को गोद लेने के अगले ही दिन, राजा गंगाधर राव की मृत्यु हो गई।

रानी लक्ष्मीबाई की अंग्रेजों से लड़ाई

राजा गंगाधर राव की मृत्यु के बाद, झांसी को ब्रिटिश सरकार द्वारा देखा गया था। ब्रिटिश भारत के गवर्नर जनरल डलहौजी ने दामोदर राव को झांसी राज्य के उत्तराधिकारी के रूप में स्वीकार करने से इनकार कर दिया और झांसी को ब्रिटिश साम्राज्य में विलय करने का फैसला किया। रानी लक्ष्मीबाई ने भी इसके खिलाफ लंदन की एक अदालत में मुकदमा दायर किया था, लेकिन उनका मामला खारिज हो गया था।

दूसरी ओर, अंग्रेजों ने झांसी के खजाने पर कब्जा कर लिया और रानी लक्ष्मीबाई को झांसी का किला छोड़ने के लिए कहा। आखिर रानी लक्ष्मीबाई इसे कैसे सहन करेंगी? उस समय रानी लक्ष्मीबाई झांसी का किला छोड़कर रानी महल चली गईं, लेकिन उन्होंने अंग्रेजों से लड़ने का फैसला किया।

रानी लक्ष्मीबाई ने ब्रिटिश शासन से लड़ने के लिए एक स्वयंसेवी सेना का गठन किया। रानी लक्ष्मीबाई ने भी अपनी सेना में महिलाओं को शामिल किया और उन्हें युद्ध लड़ने के लिए प्रशिक्षित किया। ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ाई में बेगम हजरत महल, अंतिम मुगल बादशाह की बेगम जीनत महल, खुद मुगल बादशाह बहादुर शाह, नाना साहब के वकील अजीमुल्ला, शाहगढ़ के राजा, वानपुर के राजा मर्दन सिंह और तात्या टोपे जैसे लोगों ने भी रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया।

Read More: Kapil Sharma Biography in Hindi

मार्च 1958 में ब्रिटिश सेना ने झांसी को चारों तरफ से घेर लिया। ऐसे में रानी लक्ष्मीबाई ने अपनी छोटी सी सेना से अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी। रानी लक्ष्मीबाई ने अपने बेटे को पीठ पर बांधकर अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी। हालांकि, जब विशाल ब्रिटिश सेना ने किले को पूरी तरह से घेर लिया, तब रानी लक्ष्मीबाई कालपी चली गईं।

जानिए कौन थीं गंगूबाई काठियावाड़ी, जिन्होंने नेहरू से किया था शादी का प्रस्ताव

रानी लक्ष्मीबाई कालपी में तात्या टोपे से मिलीं। रानी लक्ष्मीबाई के बाद अंग्रेज भी कालपी पहुंचे। कालपी में भी रानी लक्ष्मीबाई और अंग्रेजों के बीच युद्ध हुआ था। हालांकि यहां रानी लक्ष्मीबाई की सेना को काफी नुकसान हुआ। लेकिन रानी लक्ष्मीबाई ने हार नहीं मानी और तात्या टोपे के साथ मिलकर रानी लक्ष्मीबाई ने ग्वालियर पर कब्जा कर लिया .

इस बीच, अंग्रेज रानी लक्ष्मीबाई के पीछे ग्वालियर भी गए। 18 जून 1858 को ग्वालियर के निकट कोटा में एक बार फिर रानी लक्ष्मीबाई और अंग्रेजों के बीच भयंकर युद्ध हुआ। इस युद्ध में रानी लक्ष्मीबाई ने अपने दोनों हाथों में तलवार लेकर अंग्रेजी सेना से खूब युद्ध किया। इसी बीच अंग्रेजों ने रानी लक्ष्मीबाई को भाले से मार डाला, जिससे उनके शरीर से काफी पानी बहने लगा। इसके बावजूद रानी लक्ष्मीबाई युद्ध करती रहीं, लेकिन अत्यधिक रक्तस्राव के कारण जब वह कमजोर हो गईं तो एक अंग्रेज ने रानी लक्ष्मीबाई पर तलवार से हमला कर दिया। इससे रानी लक्ष्मीबाई बुरी तरह घायल हो गईं और घोड़े से नीचे गिर गईं।

इसके बाद रानी लक्ष्मीबाई के सैनिक उन्हें पास के एक मंदिर में ले गए, जहां रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु हो गई। रानी लक्ष्मीबाई की अंतिम इच्छा थी कि उनका शरीर अंग्रेजों के हाथ न लग जाए। यही कारण है कि सैनिकों ने मंदिर के पास रानी लक्ष्मीबाई के शव का अंतिम संस्कार कर दिया। इस तरह 18 जून 1858 को रानी लक्ष्मीबाई इस दुनिया से चली गईं।

Read More: Michael Jackson Biography in Hindi

 आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.