Biography Hindi

अरविंद केजरीवाल की जीवन  (biography)

Arvind Kejriwal Hindi Biography

अरविंद केजरीवाल जन्म और परिवार की जानकारी

हरियाणा में जन्मे अरविंद के पिता इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं। अरविंद केजरीवाल एक मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं। वह अपने भाई-बहनों में सबसे बड़े भाई हैं। उनका अधिकांश बचपन उत्तर भारत के शहरों जैसे सोनीपत, गाजियाबाद, हिसार आदि में बीता।

अरविंद केजरीवाल की शिक्षा

  • बचपन में वह हिसार स्थित कैंपस स्कूल और फिर सोनीपत स्थित क्रिश्चियन मिशनरी स्कूल के छात्र थे। यहीं से उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की।
  • स्कूल के बाद, उन्होंने स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए IIT खड़गपुर में दाखिला लिया। यहीं से उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की।
  • अरविंद ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) में भी अपनी सफलता दर्ज की और उन्हें आईआरएस अधिकारी के रूप में सेवा देने के लिए नियुक्त किया गया।

Read More: Smita Patil Biography in Hindi

अरविंद केजरीवाल का करियर

  • अरविंद केजरीवाल का करियर राजनीति से पहले या फिर राजनीति के बाद भी एक सफल करियर के रूप में उभरता है। यहां उनके करियर के बारे में कुछ खास जानकारी दी जा रही है।
  • आईआईटी खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल करने के बाद उन्होंने 1989 में टाटा स्टील से अपना करियर शुरू किया। उनकी पोस्टिंग जमशेदपुर में हुई।
  • तीन साल यहां काम करने के बाद उन्होंने 1992 में अपना पहला इस्तीफा दिया, ताकि वे सिविल सर्विस की तैयारी कर सकें।
  • उन्हें सिविल सेवा परीक्षा में सफलता मिली और यहीं से उन्होंने भारत सरकार के अधीन काम करना शुरू किया। यहीं से उन्होंने राजनीति के जमीनी पहलुओं को ठीक से समझा।

Read More: Hazarat Muhammad Sahab Biography in Hindi

राजनीति में आने की वजह

अरविंद केजरीवाल ने अन्ना हजारे के जन लोकपाल आंदोलन में बहुत सक्रियता से काम किया। लेकिन कोई प्रत्यक्ष लाभ न मिलने के कारण आंदोलन का उद्देश्य सफल नहीं हो पा रहा था. अन्ना के मुताबिक राजनीति कीचड़ है, जिसमें प्रवेश करने वाले लोग गंदे हो जाते हैं, वहीं अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस कीचड़ को साफ करना भी हमारे देशवासियों का काम है. इसलिए आंदोलन के साथ-साथ एक स्वस्थ सक्रिय राजनीति की भी जरूरत है। अरविंद ने जनलोकपाल बिल को लेकर राजनीति में कदम रखा। अरविंद केजरीवाल के मुताबिक जब वे आईआरएस अधिकारी के तौर पर काम कर रहे थे तो उन्हें अक्सर भ्रष्टाचार की समस्या का सामना करना पड़ता था। इसलिए उन्होंने यह नौकरी छोड़ दी।

अरविंद केजरीवाल के समाज कल्याण कार्य

अरविंद केजरीवाल ने अपने करियर के शुरुआती दिनों से ही सामाजिक कार्यों में रुचि लेना शुरू कर दिया था। उन्होंने टाटा स्टील जमशेदपुर से इस्तीफा देकर सिविल सेवा की तैयारी की, वहीं दूसरी ओर कोलकाता में रहते हुए उनकी मुलाकात मदर टेरेसा से हुई। उन्होंने मदर टेरेसा के आश्रम में दो महीने तक काम किया। इसके बाद उन्होंने ‘क्रिश्चियन ब्रदर्स एसोसिएशन’ के साथ काम किया। अरविंद ने ‘राम कृष्ण मिशन’ से जुड़कर गांवों के लिए कई काम किए। बाद में, उन्होंने अपने समाज कल्याण कार्यों के लिए ‘नेहरू युवा केंद्र’ को मंच के रूप में चुना। आयकर विभाग में काम करते हुए उन्होंने ‘परिवर्तन’ नाम से एक जन आंदोलन शुरू किया। इस जन आंदोलन के जरिए उन्होंने दिल्ली में होने वाले राशन कार्ड को लेकर हुए घोटाले का पर्दाफाश किया.

Read More: Swami Haridas Biography in Hindi

आम आदमी भारतीय राजनीतिक दल (आप) की स्थापना

अरविंद केजरीवाल ने सेवा करते हुए सरकारी तंत्र में गहरे बैठे भ्रष्टाचार को बखूबी समझा। वह यह भी समझ चुके थे कि इस व्यवस्था में अधिकारी करते समय भ्रष्टाचार पर नियंत्रण नहीं किया जा सकता। उन्होंने सामाजिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हुए वर्ष 2006 में आयकर विभाग के ‘संयुक्त आयुक्त’ के पद से इस्तीफा दे दिया। इस इस्तीफे के बाद वे लगातार सामाजिक मुद्दों से जुड़े रहे और समाधान ढूंढते रहे। उन्होंने अन्ना के आंदोलन में भाग लिया, जहां उन्होंने एक पार्टी बनाने की आवश्यकता महसूस की।

अरविंद केजरीवाल के पुरस्कार और सम्मान

वर्ष 2005 में, उन्हें IIT खड़गपुर द्वारा सत्येंद्र के. दुबे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्हें यह पुरस्कार सरकारी व्यवस्था में पारदर्शिता लाने के लिए दिया गया था।

वर्ष 2006 में, परिवर्तन जन आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए उन्हें रमन मैग्सेसे पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। उन्होंने इस पुरस्कार की राशि एक एनजीओ को दान की थी।

Read More: Bal Gangadhar Tilak Biography in Hindi

अरविंद केजरीवाल की कुल संपत्ति

मासिक आय रु. 1.25 लाख और अन्य भत्ते

नेट वर्थ 2 करोड़

केजरीवाल विवाद

  • अरविंद केजरीवाल ने जब से राजनीति में कदम रखा है तब से वह विवादों में हैं। उनके खिलाफ कई धाराओं के तहत मामले दर्ज हैं। कई नेताओं ने उन पर मानहानि का मुकदमा चलाया।
  • पूर्व राज्यपाल नजीब जंग से विवाद: साल 2015 में अरविंद केजरीवाल ने नजीब जंग पर केंद्र सरकार के निर्देशों के मुताबिक काम करने, खासकर अधिकारियों के तबादले का आरोप लगाया था.
  • टीवी एड का विवाद : अरविंद केजरीवाल ने अपने प्रचार अभियान के लिए टीवी एड निकाला था, जिसमें “वो मुसीबतों करते रहे रहे, हम काम करते रहे” लाइन बनाई गई थी।
  • प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव के साथ: इन दोनों ने आप पार्टी के गठन में भी योगदान दिया। बाद में उनके और अरविंद के बीच संबंध बिगड़ गए। एक वीडियो में अरविंद दोनों को गालियां देते नजर आ रहे थे.
  • फर्जी डिग्री: अरविंद केजरीवाल पर यह भी आरोप है कि उन्होंने अपनी पार्टी के कई ऐसे लोगों को टिकट दिया है, जिनके पास फर्जी डिग्री है.

Read More: Bhimsen Joshi Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.