Biography Hindi

कालिदास की जीवन परिचय(Biography)?

Kalidas Hindi Biography

कालिदास ने अपनी दूरदर्शी सोच और कल्याणकारी विचारों को अपने कार्यों में लाया। कालिदास न केवल एक महान कवि और नाटककार थे बल्कि वे संस्कृत भाषा के विद्वान भी थे। वे भारत के सर्वश्रेष्ठ कवियों में से एक थे।

भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार मानकर उन्होंने अपनी रचनाओं को सुंदर, सरल और अलंकृत भाषा में रचा और अपनी रचनाओं के माध्यम से भारत को एक नई दिशा देने का प्रयास किया।

  • नाम कालिदास
  • जन्म पहली से तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के बीच माना जाता है।
  • जन्मस्थान जन्म स्थान को लेकर विवाद है।
  • राजकुमारी विद्योत्तमा से विवाह (पत्नी का नाम)।
  • मृत्यु जन्म के समान कालिदास की मृत्यु का कोई प्रमाण नहीं है।

कालिदास जी अब तक जितने भी महान कवियों में आये हैं उनमें अद्वितीय थे। उनके साहित्यिक ज्ञान का वर्णन नहीं किया जा सकता।

कालिदास की उपमाएं बेजोड़ हैं और उनके ऋतु विवरण अद्वितीय हैं। मानो संगीत कालिदास जी के साहित्य का प्रमुख अंग है, इसके साथ ही उन्होंने अपने साहित्य में रस की ऐसी रचना की है जिसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है।

उन्होंने अपनी रचनाओं में श्रृंगार रस को इस प्रकार रखा है कि पाठकों के मन में भाव स्वतः ही जाग्रत हो उठते हैं। इसके साथ ही असाधारण प्रतिभा से परिपूर्ण महान कवि कालिदास जी के साहित्य की खास बात यह है कि उन्होंने साहित्यिक सौन्दर्य के साथ-साथ आदर्शवादी परंपरा और नैतिक मूल्यों का समुचित ध्यान रखा है।

ऐसा माना जाता है कि कालिदास मां काली के परम उपासक थे। अर्थात कालिदास जी के नाम का अर्थ है ‘काली की सेवा करने वाला’।

कालिदास अपने कार्यों से सभी को अपनी ओर आकर्षित करते थे। एक बार जो व्यक्ति उनकी रचनाओं के अभ्यस्त हो जाते थे, वे उन्हीं के लिखे कार्यों में ही लीन हो जाते थे।

जैसे कोई उसे एक बार देखता था, बस उसे देखता ही रह जाता था क्योंकि वह बहुत ही आकर्षक था, इसके साथ ही वह राजा विक्रमादित्य के दरबार के 9 रत्नों में से एक था।

Read More: Sanjay Dutt Biography in Hindi

कालिदास जी का प्रारंभिक जीवन

कालिदास के जन्म के समय को लेकर विवाद:

साहित्य के विद्वान और महान कवि कालिदास का जन्म कब और कहां हुआ, इस बारे में अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं है। लेकिन उनके जन्म को लेकर विद्वानों के अलग-अलग मत हैं।

ऐसा माना जाता है कि कालिदास 150 ईसा पूर्व से 450 ईस्वी तक रहे होंगे। जबकि एक शोध के अनुसार कालिदास का जन्म गुप्त काल में हुआ होगा। चूँकि कालिदास ने दूसरे शुंग शासक अग्निमित्र को नायक बनाकर “मालविकाग्निमित्रम” नाटक लिखा और अग्निमित्र ने 170 ईसा पूर्व में शासन किया जिससे कालिदास के जन्म का अनुमान लगाया जा सकता है।

छठी शताब्दी में, बाणभट्ट ने अपने काम “हर्षचरितम” में कालिदास का उल्लेख किया है और इसी अवधि के पुलकेशिन द्वितीय के ऐहोल शिलालेख में कालिदास का उल्लेख है, आखिरकार वह उनके पीछे नहीं हो सकते। इस प्रकार कालिदास का जन्म पहली शताब्दी ईसा पूर्व से तीसरी शताब्दी ईस्वी के बीच माना जाता है।

विद्योत्तमा के श्राप के बाद महान कवि बने कालिदास:

1) कुछ दिनों के बाद जब राजकुमारी विद्योत्तमा को कालिदास की मंद बुद्धि के बारे में पता चला तो वह बहुत दुखी हुई और कालिदास जी को श्राप दिया और कह कर घर से निकाल दिया कि वह सच्चा पंडित बने बिना घर नहीं लौटना चाहिए।

Read More: Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi

2) फिर क्या था अपनी पत्नी से अपमानित कालिदास ने शिक्षा ग्रहण करने का संकल्प लिया और सच्चा पंडित बनने की ठान ली और इसी संकल्प के साथ उन्होंने घर छोड़ दिया। और सच्चे मन से मां काली की पूजा करने लगे।

3) जिसके बाद मां काली की कृपा से वे साहित्य के सर्वोच्च विद्वान और विद्वान बने। इसके बाद वह अपने घर लौट आया, और अपनी पत्नी को अपनी आवाज दी, जिसके बाद विद्योत्तमा को दरवाजे पर सुनने के बाद ही समझ में आया कि एक विद्वान व्यक्ति आया है।

4) इस तरह उन्होंने अपनी पत्नी की फटकार के बाद सर्वोच्च ज्ञान प्राप्त किया और एक महान कवि बन गए। आज उनकी गिनती विश्व के श्रेष्ठ कवियों में होती है, इतना ही नहीं कालिदास जैसे कवि का जन्म आज तक साहित्य में नहीं हुआ है।

महान कवि कालिदास

1) महाकवि कालिदास की गिनती भारत के ही नहीं बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ लेखकों में होती है। उन्होंने अपनी अद्भुत कृतियों का प्रदर्शन कर नाटकीय, महाकाव्य और गीतात्मक कविता के क्षेत्र में एक अलग पहचान बनाई।

2) महाकवि कालिदास जी कालिदास की कृतियों को उनकी दूरदर्शी सोच और उनके द्वारा लिखी गई अनूठी रचनाओं के कारण दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कवियों और नाटककारों में गिना जाता है।

3) उनकी रचनाओं का साहित्यिक और ऐतिहासिक महत्व है। उनकी रचनाओं की एक लंबी सूची है, लेकिन कालिदास ने अपनी 7 रचनाओं के कारण सबसे अधिक प्रसिद्धि प्राप्त की है।

Read More: Sonu Nigam Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.