Biography Hindi

रबीन्द्रनाथ टैगोर की जीवन परिचय(Biography)?

Rabindranath Tagore Hindi Biography

कवि कुलगुरु रवींद्रनाथ टैगोर, माँ भारती के शिखर-पुत्रों में से एक, संवेदनशीलता, रचनात्मकता, नैतिकता और प्रगतिशीलता की एक ज्वलंत प्रेरणा थे। वह राष्ट्रगान के लेखक और साहित्य में नोबेल पुरस्कार विजेता भी थे। वह ब्रह्म समाज के एक बंगाली कवि, दार्शनिक, चित्रकार और संगीतकार थे। वे एक सांस्कृतिक समाज सुधारक भी थे। रवींद्रनाथ टैगोर आज भी अपने काव्य गीतों और साहित्यिक कार्यों के लिए जाने जाते हैं। उनका साहित्य उनकी रचनाओं को आध्यात्मिक और गरिमापूर्ण ढंग से प्रस्तुत करता था। वह अपने समय की महान हस्तियों में से एक हैं जिन्होंने साहित्य के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान दिया।

इसकी साहित्यिक परिभाषा के कारण, अल्बर्ट आइंस्टीन जैसे वैज्ञानिकों के साथ उनकी मुलाकात को विज्ञान और अध्यात्म के बीच संघर्ष के रूप में जाना जाता है। रवींद्रनाथ टैगोर ने अपनी साहित्यिक मेहनत से अपनी विचारधारा को दुनिया के सभी हिस्सों में फैलाने का काम किया। उन्होंने जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों में भाषण दिए और पूरी दुनिया का दौरा किया। वह नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय थे। भारतीय राष्ट्रगान जन गण मन के अलावा, उन्होंने “अमर सोनार बांग्ला” की रचना की। जिसे बांग्लादेश के राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया था। श्रीलंका का राष्ट्रगान भी रवींद्रनाथ टैगोर की कलम से बनाया गया है।

  • नाम रवींन्द्रनाथ टैगोर
  • पिता का नाम देवेंद्र नाथ टैगोर
  • माता का नाम शारदा देवी
  • जन्म (Birth) 7 मई 1861
  • जन्म स्थान कोलकाता
  • शिक्षा लन्दन लॉ कॉलेज
  • कार्यक्षेत्र कवि
  • पुरस्कार नोबेल पुरस्कार (1913)
  • मुख्य योगदान राष्ट्रगान के रचियता

Read More: Kalpana Chawla Biography in Hindi

रविंद्र नाथ टैगोर जन्म और प्रारंभिक शिक्षा

रवीना टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को कोलकाता के जोरासांको की हवेली में हुआ था। उनके पिता का नाम देवेंद्र नाथ टैगोर था। उनके पिता ब्रह्म समाज के वरिष्ठ नेता और एक साधारण जीवन जीने वाले व्यक्तित्व थे। उनकी माता का नाम शारदा देवी था। वह एक धार्मिक महिला थीं। रवींद्रनाथ टैगोर परिवार के 13 बच्चों में सबसे छोटे थे। बचपन में ही टैगोर की मां का देहांत हो गया था। जिस वजह से उनका पालन-पोषण नौकरों ने ही किया था। रवीन्द्रनाथ की प्रारंभिक शिक्षा सेंट जेवियर्स स्कूल में हुई।

रबिन्द्रनाथ टैगोर का विवाह

वर्ष 1883 में रवींद्रनाथ टैगोर का विवाह मृणालिनी देवी से हुआ था। उस समय मृणालिनी देवी केवल 10 वर्ष की थी। रवींद्र नाथ टैगोर ने 8 साल की उम्र में कविता लिखना शुरू कर दिया था और 16 साल की उम्र में उन्होंने भानु सिन्हा के छद्म नाम से कविताएं प्रकाशित करना भी शुरू कर दिया था। वर्ष 1871 में रवींद्र नाथ टैगोर के पिता ने उन्हें लंदन के लॉ कॉलेज में भर्ती करा दिया। लेकिन साहित्य में उनकी रुचि के कारण वे दो साल बाद बिना डिग्री प्राप्त किए भारत लौट आए।

वर्ष 1877 में, रवींद्रनाथ टैगोर ने एक लघु कहानी ‘भिखारिणी’ और कविताओं का एक संग्रह, ‘संध्या संघ’ की रचना की। रवींद्रनाथ टैगोर ने महान कवि कालिदास की कविताओं को पढ़कर प्रेरणा ली। वर्ष 1873 में रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने पिता के साथ देश के विभिन्न राज्यों का दौरा किया। इस दौरान रवीना टैगोर ने विभिन्न राज्यों के सांस्कृतिक और साहित्यिक ज्ञान को संचित किया। अमृतसर प्रवास के दौरान उन्होंने सिख धर्म का बहुत गहराई से अध्ययन किया। और उन्होंने सिख धर्म पर कई कविताएँ और लेख लिखे।

रवीन्द्रनाथ टैगोर की प्रमुख रचनाये

रवींद्रनाथ टैगोर ने कई कविताएँ, उपन्यास और लघु कथाएँ लिखीं। लेकिन अधिक संख्या में साहित्यिक कृतियों का निर्माण करने की उनकी इच्छा उनकी पत्नी और बच्चों की मृत्यु के बाद ही बढ़ी।

Read More: Mukesh Ambani Biography in Hindi

उनकी कुछ साहित्यिक रचनाये का उल्लेख नीचे किया गया है:

  • रवींद्रनाथ टैगोर ने बचपन से ही लेखन का काम शुरू कर दिया था। रवींद्रनाथ टैगोर ने हिंदू विवाहों के नकारात्मक पक्ष और कई अन्य रीति-रिवाजों के बारे में भी लिखा जो देश की परंपरा का हिस्सा थे। उनकी कुछ प्रसिद्ध लघु कथाओं में ‘काबुलीवाला’, ‘क्षुदिता पाशन’, ‘अतोत्जू’, ‘हैमंती’ और ‘मुसलमानिर गोलपो’ जैसी कई अन्य कहानियाँ शामिल हैं।
  • कहा जाता है कि उनकी रचनाओं में उनके उपन्यासों को अधिक सराहा जाता है। रवींद्रनाथ ने अपने साहित्य के माध्यम से अन्य प्रासंगिक सामाजिक बुराइयों के बीच राष्ट्रवाद के आसन्न खतरों के बारे में बात की।
  • उनके अन्य प्रसिद्ध उपन्यासों में ‘नौकाडुबी’, ‘गोरा’, ‘चतुरंगा’, ‘घरे बेयर’ और ‘जोगजोग’ शामिल हैं।
  • रवींद्रनाथ ने कबीर और रामप्रसाद सेन जैसे प्राचीन कवियों से प्रेरणा ली और इस प्रकार उनकी कविता की तुलना अक्सर शास्त्रीय कवियों के 15 वीं और 16 वीं शताब्दी के कार्यों से की जाती है। अपनी स्वयं की लेखन शैली को शामिल करके उन्होंने लोगों को न केवल अपने कार्यों बल्कि प्राचीन भारतीय कवियों के कार्यों पर भी ध्यान आकर्षित किया। रवींद्रनाथ टैगोर ने कुल 2230 गीतों की रचना की।
  • रवींद्रनाथ टैगोर की प्रमुख कृतियों में ‘बालका’, ‘पूर्वी’, ‘सोनार तोरी’ और ‘गीतांजलि’ शामिल हैं।
  • रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने गीतों के माध्यम से स्वतंत्रता के लिए ब्रिटिश प्रशासन को नमन किया। उन्होंने भारतीय राष्ट्रवादियों का भी समर्थन किया और सार्वजनिक साम्राज्यवाद की सार्वजनिक रूप से आलोचना की। रवींद्रनाथ टैगोर ने भी अंग्रेजी शिक्षा प्रणाली का कड़ा विरोध किया। उन्होंने 1915 में जलियांवाला बाग हत्याकांड के विरोध में मिली नाइटहुड की उपाधि वापस कर दी थी। यह उपाधि रवींद्रनाथ टैगोर को किंग जॉर्ज पंचम द्वारा प्रदान की गई थी।

शांतिनिकेतन की स्थापना

रवींद्रनाथ टैगोर के पिता ने शांतिनिकेतन क्षेत्र में जमीन का एक बड़ा हिस्सा खरीदा था। रवींद्रनाथ टैगोर जी ने अपने पिता की संपत्ति को स्कूल में बदलने की सोची। उन्होंने यह काम 1901 में करना शुरू किया था।

रवींद्रनाथ टैगोर ने पश्चिम बंगाल में विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्थापना की। इसे बाद में शांतिनिकेतन विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाने लगा। इसकी दो परिषदें हैं, एक शांतिनिकेतन है और दूसरी श्रीनिकेतन है। श्रीनिकेतन के अंतर्गत कृषि, प्रौढ़, शिक्षा, ग्राम, कुटीर, उद्योग तथा हस्तशिल्प को शिक्षा प्रदान करने का कार्य किया जाता है।

Read More: Virat Kohli Biography in Hindi

रबीन्द्रनाथ टैगोर जी के संगीत और कलाकृतियां

1)रवीन्द्रनाथ टैगोर बहुमुखी प्रतिभा के धनी होने के साथ-साथ एक अच्छे संगीतकार भी थे। रवीन्द्रनाथ टैगोर ने 2000 से अधिक संगीत की रचना की और इसे चित्र का रूप भी दिया। आज भी उनके संगीत को बंगाली संगीत संस्कृति का अभिन्न अंग माना जाता है।

2) रवीन्द्रनाथ जी के गीत रवीन्द्र संगीत के नाम से भी विश्व प्रसिद्ध हैं। उनकी संगीत रचना भक्ति में भजन और प्रेम सारांश तक सीमित है। इसके अलावा रवीन्द्रनाथ जी के संगीत में मानवीय संगीत भावनाओं के पहलू भी देखने को मिलते हैं। जब रवींद्रनाथ टैगोर जी 60 वर्ष के हुए, तो उन्होंने पेंटिंग करना शुरू किया और उन्होंने अपने जीवनकाल में 2000 से अधिक चित्रों की रचना की और इसे अन्य सभी देशों में भी प्रदर्शित किया गया है।

3) रवींद्रनाथ टैगोर की सबसे प्रसिद्ध रचना ‘गीतांजलि’ थी और इसके लिए उन्हें 1913 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। टैगोर जी की यह रचना लोगों को बहुत पसंद आई और इसका अंग्रेजी जैसी दुनिया की सभी प्रमुख भाषाओं में अनुवाद किया गया। जर्मन, फ्रेंच, जापानी और रूसी।

4) टैगोर जी द्वारा रचित कई प्रकार की कहानियाँ भी हैं, जो बहुत प्रसिद्ध हुईं, उनमें काबुलीवाला, मास्टर साहब और पोस्ट मास्टर शामिल हैं, जो आज भी लोगों के दिलों में अपनी छाप छोड़ गए हैं। रवींद्रनाथ टैगोर की प्रत्येक कृति में स्वतंत्रता आंदोलन और उस समय की सामाजिक दृष्टि की झलक देखी जा सकती है।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.