Biography Hindi

सोहनलाल द्विवेदी की जीवन (biography)

Sohanlal Dwivedi Hindi Biography

1) सोहन लाल द्विवेदी का जन्म 22 फरवरी 1906 को उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले की बिंदकी तहसील के सिजौली गांव में हुआ था। उनकी माता सरवित और पिता पं. बिंदप्रसाद द्विवेदी एक समर्पित कन्याकुब्ज ब्राह्मण थे। द्विवेदी जी ने अपनी हाई स्कूल की शिक्षा फतेहपुर में की और उन्होंने एमए हिंदी में किया।

2) उन्होंने संस्कृत का भी अध्ययन किया। उच्च शिक्षा हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी में हुई। 1 मार्च 1988 को राष्ट्रीय कवि सोहनलाल द्विवेदी गहरी नींद में सो गए।

3) सोहनलाल द्विवेदी हिन्दी कविता के अमूल्य निधि थे। महात्मा गांधी के दर्शन से प्रभावित होकर द्विवेदी जी ने बच्चों की रचनाएँ भी लिखीं। राष्ट्रवाद से जुड़े कवियों में उनका स्थान नगण्य है। वे हिन्दी के प्रसिद्ध कवि थे। ऊर्जा और चेतना से परिपूर्ण रचनाओं के इस लेखक को राष्ट्रीय कवि की उपाधि से अलंकृत किया गया। 1969 में, भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री की उपाधि से सम्मानित किया।

4) उनकी शायरी भी बहुत अच्छी थी। पार्षद के ध्वज गान के साथ उनका ‘खदीगीत’ गाया गया। उनका लंबा गाना ‘ओ झंडा फहराने वालों पर लाल किला / सच कहने कितने साथ साथ तुम्हारे हैं।’ प्रधानमंत्री नेहरू के रीति-रिवाजों और नीतियों पर सीधा हमला है।

5) उन्होंने गांधीवाद के सार को आवाज देने का सार्थक प्रयास किया है और अहिंसक क्रांति के विद्रोह और सुधारवाद को एक बहुत ही सरल, शक्तिशाली और सफल कविता बनाकर ‘जनसाहित्य’ बनाने के लिए इसे मार्मिक और लुभावना बना दिया है।

Read More: Dipak Rawat Biography in Hindi

द्विवेदी पर लिखे एक लेख में अच्युतानंद मिश्रा ने लिखा है-

“मैथिलीशरण गुप्त, माखनलाल तुर्वेदी, बालकृष्ण शर्मा नवीन, रामधारी सिंह दिनकर, रामवृक्ष बेनीपुरी या सोहनलाल द्विवेदी राष्ट्रीय पुनर्जागरण के उत्प्रेरक के रूप में ऐसे कवियों के नाम हैं”, जिन्होंने अपने संकल्प और विचार, बलिदान और बलिदान की सहायता से जागृत किया। अपने पूरे युग में राष्ट्रवाद का गौरव। आक्रोशित था, देश के युवाओं को गांधी जी के पीछे खड़ा कर दिया था। सोहनलालजी उस श्रृंखला की महत्वपूर्ण कड़ी थे।

डॉ. हरिवंश राय ‘बच्चन’ ने एक बार लिखा था-

जहां तक ​​मेरी स्मृति का संबंध है, जिस कवि को सबसे पहले राष्ट्रकवि के रूप में नामित किया गया था, वह सोहनलाल द्विवेदी थे। गांधीजी पर केंद्रित उनका गीत ‘युगवतार’ या उनकी प्रसिद्ध कृति ‘भैरवी’ का ‘वंदना के ने स्वर में एक स्वर मेरा मिला हो, जहान बली शीश आगनित एक सर मेरा मिला हो’ गीत स्वतंत्रता सेनानियों का सबसे प्रेरणादायक गीत था।

Read More: Brahma Kumari Biography in Hindi

दांडी यात्रा का उल्लेख करते हुए अच्युतानंद जी ने लिखा है-

1) गांधी जी ने अपने 76 सत्याग्रही कार्यकर्ताओं के साथ 12 मार्च 1930 को साबरमती आश्रम से 200 मील दूर दांडी मार्च किया। भारत में पद यात्रा, जनसंपर्क और जन जागरूकता की ऋषि परंपरा मानी जाती है।

2) उस यात्रा में ब्रिटिश सत्ता को चुनौती देते हुए सोहनलाल जी ने कहा था – “या तो भारत आजाद होगा, कुछ दिन रात के पहर में या शरीर एक शव की तरह लहराएगा, मेरे समुद्र की लहरों पर, शहीद, अपने फूलों से भरा अंतिम संस्कार जुलूस। क्या आज दांडी मार्च समारोह में सोहनलालजी का कोई उल्लेख है?”

Read More: Mahadev Govind Biography in Hindi

3) बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में सोहनलाल जी के सहपाठी रहे हजारी प्रसाद द्विवेदी ने सोहनलाल द्विवेदी जी पर एक लेख लिखा-

4) “उनकी कविताओं का विश्वविद्यालय के छात्र समुदाय पर बहुत प्रभाव पड़ा। उन्हें गुरुकुल महामना मदनमोहन मालवीय का आशीर्वाद प्राप्त था। वह स्वतंत्रता संग्राम में अपने साथ लड़ने के लिए युवकों का एक समूह बनाने में हमेशा सफल रहे।

5) भाई सोहनलाल जी ने पीट-पीटकर मुझे कवि बनाने का प्रयास किया था, वे छात्र कवि संगठन ‘सुकवी समाज’ के मंत्री थे और मैं बहुत जल्द संयुक्त मंत्री बन गया था। मुझे पता चला कि यह क्षेत्र मेरा नहीं है, फिर भी मुझे उनके प्रेरणास्पद पत्र मिलते थे। शायद उन्हें यह भी नहीं पता था कि हिंदी साहित्य की भूमिका ‘मैंने इसे उनके उत्साहजनक पत्रों के कारण लिखा है’।

Read More: Rajesh Joshi Biography in Hindi

6) 1941 में देश प्रेम से परिपूर्ण भैरवी उनकी पहली प्रकाशित कृति थी। उनकी महत्वपूर्ण शैली में पुजागीत, युगधर, विशपान, वसंती, चित्रा जैसी कई काव्य रचनाएँ सामने आईं। उनकी बहुमुखी प्रतिभा उसी समय प्रकट हुई जब उन्होंने 1937 में लखनऊ से दैनिक पत्र ‘अधिकार’ का संपादन शुरू किया। चार साल बाद, उन्होंने एक अवैतनिक संपादक के रूप में “बलसखा” का संपादन भी किया। वे देश में बाल साहित्य के महान शिक्षक थे।

सोहन लाल द्विवेदी की रचनाएँ

सोहन लाल द्विवेदी की रचनाएँ ऊर्जावान और राष्ट्रवाद के प्रतीक हैं। गांधीवाद को अभिव्यक्ति देने के लिए उन्होंने युगावतार, गांधी, खादी गीत, गांव में किसान, दांडी यात्रा, त्रिपुरी कांग्रेस, बढ़ो अभय जय जय जय, राष्ट्रीय निशान आदि जैसी लोकप्रिय रचनाएं रची हैं। इसके अलावा आपने बेहतरीन कविताएं लिखी हैं। भारत के देश, ध्वज, देशभक्ति और राष्ट्रीय नेताओं के विषय पर गुणवत्ता। उन्होंने कई प्रार्थना गीत लिखे हैं, जो प्रसूक्त होने के कारण सामूहिक रूप से गाए जाते हैं।

Read More: Geet Chaturvedi Biography in Hindi

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.