Biography Hindi

नरेश मेहता का जीवन (biography)

Naresh Mehta Hindi Biography

नरेश मेहता साहित्य के ऐसे कवि रहे हैं कि उन्होंने अपनी कविता को हमेशा वैचारिक संकीर्णता से बचाया है। वह रेडियो इलाहाबाद में ‘आप कार्यक्रम’ में रेडियो अधिकारी भी रह चुके हैं। नरेश मेहता ने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। आइए जानते हैं नरेश मेहता के जीवन के बारे में –

साहित्यिक कवि नरेश मेहता की जीवनी

ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता हिंदी कवि नरेश मेहता का जन्म 15 फरवरी 1922 को मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र के शाजापुर शहर में हुआ था। नरेश मेहता का असली नाम पूर्णशंकर शुक्ल है। नरसिंहगढ़ की राजमाता ने उसका नाम नरेश रखा। फिर बाद में वे नरेश मेहता के नाम से प्रसिद्ध हुए।

उनके पिता का नाम पंडित बिहारीलाल था। उनके पिता ने तीन शादियां की थीं। नरेश तीसरी पत्नी का बेटा था। पिता की मृत्यु के बाद उनके चाचा पंडित शंकर लाल शुक्ल ने उन्हें पुत्र के रूप में स्वीकार किया और नरेश जी का अच्छे से पालन-पोषण किया। उनकी प्रारंभिक शिक्षा उज्जैन में पूरी हुई। उज्जैन से दसवीं की परीक्षा पास करने पर नरेश जी के अनुरोध पर उन्हें उच्च शिक्षा के लिए वाराणसी जाने दिया गया। बनारस जाते समय उनकी मुलाकात डॉ. योगेंद्र नाथ मिश्रा से हुई और उनके साथ रहकर नरेश जी ने अपनी शिक्षा पूरी की।

Read More: Naveen Patnayak Biography in Hindi

रुचि और प्रेरणा

माता और पिता दोनों के जाने का बच्चे की मानसिकता पर गहरा प्रभाव पड़ा। रिश्तेदारों की कमी के कारण वह अंतर्मुखी हो गया। किशोरावस्था के दौरान हुए परिवर्तनों के परिणामस्वरूप उन्होंने “भीड़ के बीच अकेला” महसूस किया। नरेश मेहता का जीवन अशांत परिस्थितियों में बीता। जो कोई भी इस तरह के कठिन समय और दुख से गुजरा है वह भौतिकवाद में विश्वास करने के लिए मजबूर होगा। साथ ही वह प्रतिशोध की गहरी भावना से भर जाएगा। नरेश जी इन दोनों परिणामों से परहेज करते हैं। वे न केवल जीवित रहते हैं, बल्कि पूरी गति से स्वयं पर भी उठते हैं। “नया मेरा युग है, मेरा स्वभाव है, और मैं सबसे महान हूँ,” वह अपने दूसरे सप्तक में घोषित करता है।

करियर

राजनीति और साहित्य को अदला-बदली मानने वाले नरेशजी ने अपने करियर की शुरुआत ऑल इंडिया रेडियो से की थी। लखनऊ केंद्र उनकी पहली नियुक्ति थी। उसके बाद उन्होंने नागपुर और प्रयाग में आकाशवाणी केंद्रों में काम करके अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया। उन्होंने साहित्यिक स्वतंत्रता के समर्थक के रूप में 1953 में ऑल इंडिया रेडियो से इस्तीफा दे दिया और उनके मानव स्वभाव ने कभी भी विविध विचारों से समझौता नहीं किया।

Read More: Geet Chaturvedi Biography in Hindi

उसके बाद, नरेश जी दिल्ली चले गए और कुछ मित्रों की मदद से अपना लेखन पूरा करते हुए पत्रिका ‘साहित्यकार’ का संपादन किया। इसी बीच उन्हें अखिल भारतीय मजदूर संघ के प्रकाशन ‘भारतीय श्रमिक’ के संपादक के रूप में कार्य करने का अवसर दिया गया। पत्र संपादन के संदर्भ में, नरेश मेहता का साहित्यिक पत्रिका कृति का संपादन, श्रीकांत वर्मा के साथ सहायक संपादक के रूप में, समान रूप से उल्लेखनीय है।

कवि नरेश मेहता का साहित्यिक परिचय

नरेश मेहता संस्कृतकृत खादी भाषा का प्रयोग करते थे। नरेश जी की कविताओं की भाषा विषयोन्मुखी, भावपूर्ण और प्रवाहमयी है। उनके काव्य में रूपक, मानवीकरण, उपमा, अनुप्रास, अनुप्रास आदि का प्रयोग किया गया है तथा परम्परागत नये छंदों के साथ-साथ नये छंदों का भी प्रयोग किया गया है। श्री नरेश मेहता उन शीर्ष लेखकों में से एक हैं जो भारतीयता की अपनी गहरी दृष्टि के लिए जाने जाते हैं।

नरेश मेहता ने एक नई व्यंजना के साथ आधुनिक कविता को एक नया आयाम दिया है। नरेश मेहता ने इंदौर से प्रकाशित ‘चौथा संसार’ हिंदी दैनिक का संपादन भी किया है। रागवाद, संवेदनशीलता और उदात्तता उनकी रचना के मूल तत्व हैं। नरेश जी ने भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया। साथ ही नरेश मेहता जी ने ऑल इंडिया रेडियो इलाहाबाद में नौकरी तो की, लेकिन नरेश जी के लिए नौकरी का बंधन उन्हें ज्यादा दिन तक नहीं बांध सका। वे स्वतंत्र लेखन की आशा में इलाहाबाद आए और कुछ समय बाद उज्जैन में ‘प्रेमचंद सृजन पीठ’ के निदेशक के रूप में वहीं बस गए।

Read More: Brahma Kumari Biography in Hindi

कृतियों

नरेश मेहता जी की प्रमुख रचनाएँ इस प्रकार हैं – चीड़ बोलें, अरण्य, उत्तर कथा, एक समर्पित स्त्री, कितना अकेला आकाश चैत्य, दो एकांत, धूमकेतु: एक श्रुति, पुरुष, प्रति श्रुति, प्रवाद पर्व, यह पथ था भाई .

मान सम्मान

नरेश मेहता को उनकी साहित्यिक सेवाओं के लिए 1888 में साहित्य अकादमी पुरस्कार और 1992 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

Read More: Kalidas Biography in Hindi

मौत

22 नवंबर 2000 को हमारे महान कवि, लेखक का निधन हो गया। लेकिन नरेश मेहता जी आज भी ‘द्वितीय सप्तक कवि’ के नाम से प्रसिद्ध हैं। नरेश जी साहित्य में कुछ नया रचने वाले रचनाकारों में से एक थे। नरेश मेहता की कृतियाँ जीवन की हर परिस्थिति में मानव जीवन की समझ की खोज करती रहती हैं।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Read More: Sarojini Naidu Biography in Hindi

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.