Biography Hindi

स्वामी विवेकानंद की जीवन परिचय(Biography)?

Swami Vivekananda Biography in Hindi

स्वामी विवेकानंद का जन्म 1863 को हुआ था। घर में स्वामी विवेकानंद का उपनाम नरेंद्र दत्त था। उनके पिता विश्वनाथ दत्त पश्चिमी सभ्यता में विश्वास करते थे। वे यह भी चाहते थे कि उनका बेटा नरेंद्र अंग्रेजी सीखे और उसे पश्चिमी सभ्यता की शैली में चलाए। आज हम स्वामी विवेकानंद उद्धरण, स्वामी विवेकानंद मृत्यु कारण और स्वामी विवेकानंद भाषण से संबंधित जानकारी देने जा रहे हैं। नरेंद्र की बुद्धि बचपन से ही बहुत तेज थी और ईश्वर को पाने की लालसा भी प्रबल थी।

इसके लिए वह पहले ब्रह्म समाज में गए, लेकिन वहां उनका मन संतुष्ट नहीं हुआ। स्वामी विवेकानंद शिकागो भाषण बहुत लोकप्रिय है। स्वामी विवेकानंद जयंती भारत में 12 जनवरी को मनाई जाती है। स्वामी विवेकानंद के शैक्षिक विचार और स्वामी विवेकानंद के सामाजिक विचार बहुत अच्छे थे। हम उनके ऋणी हैं जिनका लाभ हमारे देश को मिला है। तो आइए बात करते हैं स्वामी विवेकानंद के सिद्धांतों के बारे में।

  • पूरा नाम नरेंद्रनाथ विश्वनाथ दत्त
  • जन्म 12 जनवरी 1863
  • जन्मस्थान कलकत्ता (पं. बंगाल) भारत
  • पिता विश्वनाथ दत्त
  • माता भुवनेश्वरी देवी
  • उपनाम नरेन्द्र और नरेन
  • भाई-बहन 9
  • गुरु रामकृष्ण परमहंस
  • शिक्षा बी. ए
  • विवाह अविवाहीत
  • स्थापना रामकृष्ण मठ, रामकृष्ण मिशन
  • साहित्यिक कार्य राज योग, कर्म योग, भक्ति योग, ज्ञान योग,माई मास्टर
  • नारा “ उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये”
  • मृत्यु तिथि 4 जुलाई, 1902
  • मृत्यु स्थान बेलूर, पश्चिम बंगाल

बचपन में वीरेश्वर कहे जाने वाले विवेकानंद स्वामी का जन्म एक कायस्थ परिवार में हुआ था। विवेकानंद के पिता कलकत्ता उच्च न्यायालय के एक प्रतिष्ठित वकील थे। परिवार में दादा के संस्कृत और फारसी के विद्वान होने के कारण घर में ही पढ़ाई का माहौल मिलता था। इससे प्रभावित होकर नरेंद्रनाथ ने 25 वर्ष की आयु में घर छोड़ दिया और संन्यासी बन गए।

Read More: Mahatma Gandhi Biography in Hindi

1884 में विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का भार नरेंद्र पर आ गया। घर की हालत बहुत खराब थी। फायदा यह हुआ कि नरेंद्र की शादी नहीं हुई थी। घोर गरीबी में भी नरेंद्र एक महान अतिथि-सेवक थे। वह खुद भूखा रहकर मेहमान को खाना देता था, वह खुद भीग कर रात भर बाहर बारिश में ठिठुरता था और मेहमान को अपने बिस्तर पर सुला देता था।

स्वामी विवेकानंद (swami vivekananda)के विचार

  1. जब तक जियो, तब तक सीखो, अनुभव दुनिया का सबसे अच्छा शिक्षक है।
  2. जितना बड़ा संघर्ष, उतनी ही शानदार जीत।
  3. पढ़ने के लिए एकाग्रता जरूरी है, एकाग्रता के लिए जरूरी है।
  4. ध्यान। ध्यान के द्वारा हम इन्द्रियों को वश में करके एकाग्रता प्राप्त कर सकते हैं।
  5. पवित्रता, धैर्य और उद्यम – ये तीन गुण मुझे एक साथ चाहिए।
  6. उठो और जागो और तब तक मत रुको जब तक आप अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते।
  7. ज्ञान अपने आप में मौजूद है, मनुष्य ही उसका आविष्कार करता है।
  8. एक समय में एक ही काम करो और ऐसा करते हुए अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो और बाकी सब भूल जाओ।
  9. जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीं कर सकते।
  10. भगवान शिव ध्यान और ज्ञान के प्रतीक हैं, आगे बढ़ने के लिए सबक सीखें।
  11. चाहे कोई आपकी प्रशंसा करे या आपकी आलोचना करे, और लक्ष्य आप पर मेहरबान हो या न हो, और आप आज मरें या उम्र में, कभी भी न्याय के मार्ग से भ्रष्ट न हों।

स्वामी विवेकानंद Swami Vivekananda के 15 सुविचार

  • उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए।
  • खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।
  • कोई आपको सिखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको अपने भीतर से ही सब कुछ सीखना होगा। आत्मा से बड़ा कोई गुरु नहीं है।
  • सत्य को हजार तरीकों से कहा जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य होगा।
  • बाहरी प्रकृति आंतरिक प्रकृति की केवल एक बड़ी अभिव्यक्ति है।
  • ब्रह्मांड की सारी शक्तियाँ पहले से ही हमारी हैं। हम ही तो हैं जो हमारी आँखों पर हाथ रखते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अँधेरा है।

Read More: Premchand Biography in Hindi

  • दुनिया एक बहुत बड़ा व्यायामशाला है जहां हम खुद को मजबूत करने आते हैं।
  • दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनें।
  • शक्ति ही जीवन है और दुर्बलता ही मृत्यु है। विस्तार जीवन है, और संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, और घृणा मृत्यु है।
  • किसी दिन, जब आपके सामने कोई समस्या न हो – आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत रास्ते पर हैं।
  • एक समय में एक ही काम करो और ऐसा करते हुए अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो और बाकी सब भूल जाओ।
  • “जियो तब तक सीखो” और अनुभव दुनिया का सबसे अच्छा शिक्षक है।
  • जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीं कर सकते।
  • जो आग हमें गर्मी देती है वह हमें नष्ट भी कर सकती है, इसमें आग का दोष नहीं है।
  • सोचो, चिंता मत करो, नए विचारों को जन्म दो।

स्वामी विवेकानंद Swami Vivekananda शिक्षा पर विचार

  1. सच्ची सफलता और खुशी का सबसे बड़ा रहस्य वह पुरुष या महिला है जो बदले में कुछ नहीं मांगता। पूरी तरह से निस्वार्थ लोग ही सबसे सफल होते हैं।
  2. एक विचार लो उस विचार को अपना जीवन बनाओ – इसके बारे में सोचो, इसके सपने देखो, उस विचार को जीओ। अपने मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, अपने शरीर के हर हिस्से को उस विचार में डूबे रहने दें, और अन्य सभी विचारों को एक तरफ रख दें। लक्ष्य प्राप्ति का यही तरीका है।
  3. क्या आपको नहीं लगता कि दूसरों पर निर्भर रहना बुद्धिमानी नहीं है। बुद्धिमान व्यक्ति को अपने पैरों पर मजबूती से खड़े होकर काम करना चाहिए। धीरे धीरे सब ठीक हो जाएगा
  4. जब लोग आपको गाली देते हैं, तो आप उन्हें आशीर्वाद देते हैं। सोचिये ये आपके झूठे दंभ को निकाल कर आपकी कितनी मदद कर रहे हैं।
  5. हम वही काटते हैं जो हम बोते हैं। हम अपने भाग्य के निर्माता स्वयं हैं।
  6. लोगों को बताएं कि क्या सच है, साहसपूर्वक और निडरता से – परवाह मत करो कि यह किसी को चोट पहुँचाता है या नहीं। दुर्बलता को कभी आश्रय न दें।
  7. यदि स्वयं पर विश्वास करना सिखाया जाता और अधिक विस्तार से अभ्यास किया जाता, तो मुझे यकीन है कि बहुत सी बुराइयाँ और दुख गायब हो जाते।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Read More: Kabir Das Biography in Hindi

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.